Vice President emphasises the need to maintain decency of language in public discourse

Vice President remembers the unsung heroes
Vice President remembers the unsung heroes

PIB News Update:

The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu today emphasised the need to maintain civility of words and decency of language in public discourse and said that it is necessary for a healthy and strong democracy.

Addressing the concluding ceremony of the 25-day long ceremonial ‘Dandi March’ organised as part of ‘Aazadi ka Amrit Mahotsav’ in the historic Dandi village of Gujarat, the Vice President asked everyone to take inspiration from Mahatma Gandhi who always used polite and respectful language even for his opponents. “Gandhi Ji’s principle of non-violence was not limited to physical violence alone, rather it encapsulated non-violence in words and thoughts too”, he said adding that political parties should treat each other as rivals not as enemies.

“Azadi Ka Amrit Mahotsav”—a 75 week festival to commemorate 75 years of India’s Independence, was flagged off by the Prime Minister, Shri Narendra Modi from Sabarmati Ashram, on March 12, 2021.  The festival celebrates the rapid strides India has taken in the past 75 years. The Vice President said that it is a festival that encourages us to rediscover our hidden strengths and prompts us to take sincere, synergistic action to regain our rightful place in the comity of nations.

Terming Mahatma Gandhi’s iconic Dandi Salt March as a watershed moment in our freedom struggle, Shri Naidu said that it altered the course of history. “The Dandi March we are symbolically revisiting today signifies our nation’s ability to stay united when we are faced with challenges”, he said. Noting that this ability to walk together on the path of development has yielded many positive outcomes, he underlined the need to consistently follow this path in future as well.

The Vice President further said that the message of iconic leaders like Gandhiji and Sardar Patel provide us the inspiration to work together to build an India we all are dreaming of.  He stated that it is an India that shares its prosperity with other nations.  “It is a nation that cherishes Constitutional values and its rich cultural heritage and has a deep commitment to the welfare of the people in sync with the motto of Sabka Saath, Sabka Vikas, Sabka Vishwas”, he added.

The Vice President said that the coronavirus pandemic proved to be a test of our resilience, spirit of enterprise and innovation. He lauded the researchers, scientists and entrepreneurs who are shaping the vision of an Atmanirbhar Bharat into reality by manufacturing essential items such as PPE kits, surgical gloves, face masks to ventilators and vaccines.

Emphasising upon the spirit of “Vasudhaiva Kutumbakam” (the world is one family), he highlighted that India, while conducting the largest vaccination drive in the world, is also supplying vaccines to a number of countries across the world. “That is the Amrita, the eternal universal vision we have inherited”, he said and expressed his satisfaction that even in these trying times, the country is following Gandhiji’s moral philosophy.

On this occasion, Shri Naidu also lauded the farming community for record production of foodgrains despite severe challenges posed by the Covid-19 induced lockdown. He termed the farmers as the ‘frontline warriors’ who ensured our food security in critical times.

Opining that the ‘Amrit Mahotsav’ should herald the reawakening of a resurgent, Atmanirbhar India, the Vice President said that the purpose of Amrita Mahotsava is to pay tribute to the heroes of freedom struggle and to dedicate ourselves to their ideals and values. He congratulated the 81 volunteers who participated in this ceremonial Dandi March, covering a distance of 385 kilometres in 25 days. Observing that most of the participants in the Dandi March (1930) were below 40 years of age, Shri Naidu noted the role of the Salt Movement in drawing the youth and women to India’s freedom struggle.

Elaborating on Gandhi Ji’s concept of freedom, the Vice President said that he believed that political slavery not only leads to economic exploitation but ruins a society culturally as well. Therefore, the purpose of Gandhiji’s Satyagraha was not just political freedom but moral and cultural uplift of the Nation. He always raised issues such as abolition of untouchability, communal harmony and ‘Swadeshi’, Shri Naidu added.

Quoting an article written by Mahatma Gandhi in Young India in 1931, the Vice President said that ‘Poorna Swaraj’ can not be achieved until a poor gets the same facilities and rights that are available to the rich. That is why Gandhiji made an everyday necessity like ‘salt’ the subject of his Satyagraha.

Talking about the progress made during the past 75 years, Shri Naidu said that over these years, we have strengthened the Nation’s unity & integrity, ensured participation of all sections in democratic process, made ourselves self-reliant in foodgrain production, improved health indices and created physical and electronic infrastructure in the country. He termed these achievements as appreciable and proud-worthy.

Earlier in the day, the Vice President paid homage to Mahatma Gandhi at the Prarthna Mandir and interacted with the marchers who participated in the ceremonial Dandi March. He also visited Saifee Villa where Gandhiji had spent a night of 4 April 1930. After this, Shri Naidu visited National Salt Satyagraha Memorial– a monument that honours the activists and participants of the Salt Satyagraha. Terming his visit to the memorial as a deeply emotional experience, Shri Naidu emphasised the need to create such memorials for all freedom fighters to inspire the younger generation to follow their ideals. He urged the youth to visit the Dandi memorial and take inspiration from the life and message of our ‘Father of Nation’.

During the program, the Vice President also released the Special Envelopes on Geographical Indication (GI TAG) Products of Gujarat State Handicrafts Development Corporation. He also witnessed the mesmerising cultural performance by the folk artists from Sikkim, Chhattisgarh and Gujarat.

Shri Acharya Devvrat, Governor of Guajrat, Shri Vijay Rupani, Chief Minister of Gujarat, Shri Prem Singh Tamang, Chief Minister of Sikkim, Shri Prahlad Singh Patel, Union Minister of State (Independent Charge) for Tourism and Culture, Shri Nitin Patel, Deputy Chief Minister of Gujarat, Shri C R Patil, Member of Parliament, Shri I.V. Subbarao, Secretary to the Vice President, Shri Sudharshan Iyengar, Trustee, Sabarmati Ashram Trust and others were present at the event.

Following is the full text of the speech – 

“हमारी आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने को आए हैं। आज़ादी, राष्ट्र के इतिहास में अमृतमय घटना थी। जिस को याद करने के लिए आज हम अमृत महोत्सव मना रहे हैं। इन 75 वर्षों के दौरान देश के नागरिकों ने अपनी प्रतिभा और पुरुषार्थ से राष्ट्र के लिए अमृत का मंथन किया है।

यह अमृत महोत्सव उनकी उपलब्धियों का गौरव करने के लिए है। यह महोत्सव हमारे स्वाधीनता संग्राम के नायकों के त्याग और तपस्या के प्रति कृतज्ञ सम्मान प्रकट करने के लिए है। यह महोत्सव उनके द्वारा स्थापित राष्ट्रवादी आदर्शों के प्रति खुद को समर्पित करने के लिए है। उनके सपनों के भविष्य के नए भारत का निर्माण करने के लिए है।

इस महोत्सव का शुभारंभ,इस वर्ष 12 मार्च को प्रधानमंत्री जी ने किया। राष्ट्रपिता की डांडी यात्रा की इक्यानबेवीं (91st) वर्षगांठ पर, उस ऐतिहासिक घटना की स्मृति में साबरमती आश्रम से इस पदयात्रा की शुरुआत की गई।

25 दिन की यह पदयात्रा आज सम्पन्न हुई। इस दौरान लगभग 385 किलोमीटर की पदयात्रा करने वाले, 81 स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं का हार्दिक अभिनंदन करता हूं।

इस सुअवसर पर 1930 में महात्मा जी के साथ चलने वाले उन हजारों भारतवासियों के प्रति नतमस्तक हूं, जो देश के विभिन्न हिस्सों से आये और राष्ट्रपिता के नेतृत्व में इस यात्रा में शामिल हुए।

डांडी यात्रा में भाग लेने वाले अधिकांश पदयात्री 40 वर्ष से कम आयु के युवा ही थे। इस प्रकार महात्मा जी की इस पदयात्रा ने बड़े पैमाने पर युवाओं को अहिंसक स्वाधीनता आंदोलन में जोड़ा।

यही नहीं, डांडी यात्रा की प्रेरणा से देश के विभिन्न भागों में स्थानीय स्तर पर नमक सत्याग्रह किए गए, जिनमें बड़ी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया।

ओडिशा में रमा देवी, सरला देवी जी के नेतृत्व में स्थानीय महिलाओं ने नमक सत्याग्रह किया, तमिलनाडु में चक्रवर्ती राजगोपालाचारी जी के नेतृत्व में वेदारण्यम में नमक सत्याग्रह किया जिसमें रुक्मणि लक्ष्मीपति ने गिरफ्तारी दी।

स्वयं गांधी जी ने डांडी के निकट धरसाना साल्ट वर्क्स पर प्रदर्शन करने का आह्वाहन किया जिसका नेतृत्व कस्तूरबा जी तथा सरोजिनी नायडू जी ने किया। इस अवसर पर मैं उन सभी विभूतियों की पुण्य स्मृति को सादर नमन करता हूं।

बहनों और भाइयों,

नमक सत्याग्रह ने हमारे स्वाधीनता आंदोलन को नई दिशा दी।

यह राष्ट्रपिता के राष्ट्रवादी चिंतन का सबसे महत्वपूर्ण प्रयोग था।

देश भर में साइमन कमीशन के विरुद्ध आक्रोश था। जिसकी प्रतिक्रिया में नेहरू रिपोर्ट पारित की गई जिसमें भारत के लिए डोमिनियन स्टेटस की मांग की गई थी। अंग्रेज सरकार द्वारा डोमिनियन स्टेटस पर भी आश्वासन न दिए जाने पर, दिसंबर 1929 को लाहौर अधिवेशन में “पूर्ण स्वराज” की घोषणा कर दी गई थी।

26 जनवरी 1930 को देश भर में प्रथम स्वतंत्रता दिवस मनाया गया, तिरंगा फहराया गया, शराब बंदी, छुआ छूत को समाप्त करने की शपथ ली गई, स्वदेशी अपनाने और सांप्रदायिक सौहार्द कायम रखने की शपथ ली गई।

इस श्रृंखला की अगली कड़ी था नमक सत्याग्रह।

इस सत्याग्रह को विश्व भर की प्रेस ने प्रचारित किया था। 1931 में अमेरिका की प्रसिद्ध टाइम पत्रिका ने गांधी जी को “Man of the Year” घोषित किया।

25 दिनों तक की लगभग 385 किलोमीटर की यात्रा  के दौरान गांधी जी 22 स्थानों पर रुके और वहां के स्थानीय समुदायों को संबोधित किया।

उनके संबोधनों में समाज में छुआ छूत का विरोध, सांप्रदायिक सौहार्द, स्वदेशी जैसे विषय उठाए जाते।

79 सत्याग्रहियों से शुरू हुआ दल, डांडी पहुंचते पहुंचते कई किलोमीटर लंबा अभियान बन गया। उनके लिए नमक सत्याग्रह आम नागरिक को स्वाधीनता आंदोलन से जोड़ने का माध्यम था।

2 मार्च 1930 को लॉर्ड इरविन को लिखा उनका पत्र एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जिसमें वे भारत में अंग्रेजी शासन को अभिशाप बताते हैं, उसकी आर्थिक और कर नीति की कड़ी आलोचना करते हैं ।

लेकिन अपने विरोधी के प्रति भी शिष्टतापूर्ण आत्मीय भाषा का प्रयोग, गांधी जी पत्रों की विशिष्टता है। अपने पत्रों में वो लॉर्ड इरविन को ” Dear Friend” लिख कर संबोधित करते है।

उनकी अहिंसा सिर्फ शारीरिक हिंसा तक ही सीमित नहीं थी बल्कि वचन और विचारों में भी अहिंसा होना आवश्यक था।

लोकतान्त्रिक विमर्श में भाषा और शब्दों का शिष्टाचार जरूरी होता है। तभी लोकतंत्र स्वस्थ और समर्थ बनता है।

गांधी जी के विचार में राजनैतिक गुलामी सिर्फ आर्थिक शोषण ही नहीं बल्कि पूरे समाज की सांस्कृतिक बर्बादी भी करती है।

गांधी जी गुलामी के कारण हुए राष्ट्र के सांस्कृतिक, नैतिक और चारित्रिक पतन से  अधिक चिंतित थे। और उनके सत्याग्रह का उद्देश्य, सिर्फ राजनैतिक आज़ादी नहीं था बल्कि राष्ट्र का नैतिक और चारित्रिक उत्थान था।

2 जनवरी 1937 को हरिजन में लिखे अपने लेख में गांधी जी अपने स्वराज की रूप रेखा बताते हैं। वे स्वराज का एक वर्ग खींचते हैं जिसके एक छोर पर राजनैतिक आज़ादी है तो दूसरी छोर पर आर्थिक आज़ादी। तीसरे छोर पर सामाजिक नैतिकता है और चौथे पर धर्म। धर्म का स्थान सबसे महत्वपूर्ण है। उनके लिए धर्म कोई भी हो सकता है हिंदू, इस्लाम या क्रिश्चियन। उनके अनुसार इनमें से यदि कोई भी कोण बिगड़ता है तो वर्ग अपना आकार खो देगा।

गांधी जी का स्वराज, गरीब का स्वराज है।  मार्च 1931 में यंग इंडिया में लिखे अपने लेख में वो मानते हैं कि जब तक गरीब की वो सारी जरूरतें, सुविधाएं नहीं पूरी होती जो किसी धनी को प्राप्त हैं, तब तक स्वराज, पूर्ण स्वराज नहीं हैं। इसीलिए उन्होंने नमक जैसी सामान्य लेकिन रोजमर्रा के लिए जरूरी चीज़ को अपने सत्याग्रह का उद्देश्य बनाया।

बहनों और भाइयों,

महाभारत में उक्ति है ” महाजनो येन गत: स पंथा “…अर्थात जो पथ महापुरुषों द्वारा दिखाया गया हो उसी पर चलना चाहिए। राष्ट्रपिता की डांडी यात्रा राष्ट्र के जीवन में ऐसा ही अनुकरणीय पथ है जो सच्चाई, अच्छाई और भलाई के प्रकाश से प्रकाशित है।

विगत 75 वर्षों में राष्ट्र महात्मा जी द्वारा दिखाए गए ” सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास ” मार्ग पर ही चला है। इस मंत्र में डांडी यात्रा के आदर्शों का अनुसरण किया गया है।

1947 का भारत आर्थिक रूप से विपन्न था, धार्मिक विभाजन ने समाज की एकता को तोड़ दिया था, संप्रभुता पर आक्रमण हुआ था, राजनैतिक रूप से देश रियासतों में बंटा हुआ था।

विगत 75 वर्षों में हमने देश की एकता और अखंडता को सुदृढ़ किया है।

लोकतांत्रिक व्यवस्था ने समाज के सभी वर्गों की भागीदारी सुनिश्चित की है।

आर्थिक रूप से हमारे किसानों ने हमें कृषि क्षेत्र में आत्म निर्भर बनाया है।

गरीबी उन्मूलन, औसत आयु, शिशु मृत्यु दर, मातृत्व सुरक्षा, साक्षरता आदि सामाजिक मानकों पर हमारी उपलब्धियां हमारे लिए गौरव का विषय हैं।

हम गावों में सड़क, संचार और संपर्क क्रांति लाने में सफल रहे हैं।

हर गांव को बिजली उपलब्ध हो रही है अब हमारा प्रयास है हर घर को पेय जल उपलब्ध हो।

सिर्फ साक्षरता ही नहीं बढ़ी है बल्कि इन्नोवेशन और उद्यमशीलता को बढ़ावा दिया जा रहा है।

गांधी जी का संघर्ष, औपनिवेशिक शासन के शोषण से मनुष्य की अपनी निजी स्वतंत्र संप्रभुता को बचाने के लिए था। उनके लिए आत्म निर्भरता इस निजी संप्रभुता,व्यक्तिगत आज़ादी का आधार थी।आज़ादी के लिए आत्म निर्भर होना आवश्यक शर्त है।

आज देश जीवन के हर क्षेत्र में  आत्म निर्भरता प्राप्त करने  का प्रयास कर रहा है। उद्यमियों और इन्नोवेशन को अवसर प्रदान किए जा रहे हैं। महामारी के दौरान भी देश को आत्म निर्भर बनाने के लिए नए प्रयास किए जा रहे हैं।

आज देश में लगभग 12500 नए स्टार्ट अप उद्यमी हैं। करों में छूट के अलावा कुछ चुने हुए उद्योगों को राजकोष से सहायता प्रदान की जा रही है। इन सभी कदमों से देश में विदेशी निवेश भी बढ़ा है।

यहां यह ध्यान रखना जरूरी है कि आज हम एक सशक्त संप्रभूतापूर्ण, स्वतंत्र राष्ट्र हैं। हमें विदेशी पूंजी निवेश, विदेशी तकनीक से आशंकित नहीं होना चाहिए बल्कि आत्म विश्वास के साथ उसे अपनाना चाहिए। यह हमारा अपना स्वतंत्र नीतिगत निर्णय है। आज विभिन्न अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियां भारत की आर्थिक प्रगति को ले कर आशान्वित हैं। विदेशी कंपनियां भारत में निवेश के लिए उत्सुक हैं।

कोरोना काल में यद्यपि हमने कुछ सीमा तक लोगों ने निजी आज़ादी खोई फिर भी इस चुनौती ने हमें आत्म निर्भरता का नया पाठ भी पढ़ाया।

टेस्टिंग इंफ्रास्ट्रक्चर से ले कर पीपीई किट, वेंटीलेटर और दवाओं का निर्माण देश में ही बड़े पैमाने पर किया गया। रिकॉर्ड समय में हमारे वैज्ञानिकों ने नई वैक्सीन विकसित भी की और बड़े पैमाने पर वैक्सीन का उत्पादन किया जा रहा है।

देश भर में 7 करोड़ से भी अधिक वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी हैं। विगत एक साल में  चिकित्सा के क्षेत्र में हमारी आत्म निर्भरता बढ़ने के कारण ही यह संभव हो सका है।

वसुधैव कुटुंबकम् के अपने सनातन आदर्श के अनुरूप, हमारी आत्म निर्भरता का अर्थ विश्व व्यवस्था से कटना नहीं है बल्कि विश्व का कल्याण है। आज  वैक्सीन मैत्री के तहत भारत 53 से भी अधिक देशों, विशेषकर पड़ोसी देशों और विकासशील देशों को वैक्सीन उपलब्ध करा रहा है। WHO  ने भारत की वैक्सीन उत्पादन क्षमता को विश्व के लिए जरूरी बताया है।

यह संतोष का विषय है कि चुनौती के इस समय में भी, देश गांधी जी के नैतिक दर्शन का अनुसरण कर रहा है। जिससे विश्व में हमारी प्रतिष्ठा बढ़ी है।

अमृत महोत्सव, स्वाधीनता आंदोलन के आदर्शों की पृष्ठभूमि में हमारी उपलब्धियों का आंकलन करने का भी अवसर होगा। अमृत महोत्सव के पांच स्तंभ हैं : आज़ादी का आंदोलन, Idea at 75, Achievements at 75, Action at 75 तथा Resolve at 75 ।

मुझे विश्वास है कि  विगत दशकों में देश की उपलब्धियां, हमारे राष्ट्रीय नायकों की अपेक्षाओं के अनुरूप रही हैं। हमारी आज़ादी उनके संघर्ष की पुण्य विरासत है जिसे हमें संरक्षित रखना है और बढ़ाना है। विश्वास करता हूं कि इस अवसर पर हम ” India @2047″ के तहत हम आज़ादी के 100 वर्ष होने पर, एक नए भारत की रूपरेखा भी तैयार करेंगे और आगामी 25 वर्षों में उसे पूरा भी करेंगे।

Dear Sisters and brothers,

When Prime Minister Narendra bhai Modi flagged off the “Azadi Ka Amrit Mahotsav”—a 75 weekfestival to commemorate 75 years of India’s Independence, from Sabarmati Ashram, on March 12, 2021, he launched a festival that celebrates the rapid strides India has taken in the past 75 years.

It is a festival that encourages us to rediscover our hidden strengths and prompts us to take sincere, synergistic action to regain our rightful place in the comity of nations.

Sisters and brothers,

My heart swells with pride as I join you today to be a part of this concluding ceremony to mark the completion of this ceremonial event.

Often, while tracing the history of a nation’s journey, we come across watershed moments which alter the course of the flow of events. Mahatma Gandhi’s celebrated Dandi Salt March marks one such defining milestone which stands out as an iconic example of Bapu’s non-violent call for Civil Disobedience against British rule.

As we celebrate our achievements and prepare for the challenges in our development journey, the message of iconic leaders like Gandhiji and Sardar Patel provides us the inspiration to work together to build an India we all are dreaming of.

It is an India which our freedom fighters and Constitution makers had dreamt of.

It is an India which has been built by successive governments.

It is Ek Bharat Shresht Bharat, one India and the best India.

It is a healthy, literate, educated, self-reliant India. It is an India that celebrates its rich diverse cultural heritage. It is an India that is strong but non-violent.

It is an India that shares its prosperity with other nations.

It is a nation that cherishes Constitutional values and nurtures its democratic roots.

Embedded in our constitutional values is a deep commitment to the development and welfare of our people as the motto of Sabka Saath, Sabka Vikas, Sabka Vishwas of the government captures so clearly.

Gaining freedom from foreign rule was a great moment in our history.  That we could achieve it with non-violent means is even more remarkable.

The Dandi March we are symbolically revisiting today signifies our nation’s ability to stay united when we are faced with challenges.  It is that ability to walk together on the path of development that has yielded so many positive outcomes.

We must continue on this path, taking one confident step after another, one competent measure after another and one collaborative action after another.

This should be the guiding, motivating force as we intensify our efforts or the churning that produces ‘Amrita’ or elixir and ensure that the drops from this ‘Amrita’ reach every one in our country.

Amrit Mahotsav should herald the reawakening of a resurgent, Atmanirbhar India.

The coronavirus pandemic proved to be a test of our resilience, spirit of enterprise and innovation. From manufacturing PPE kits to surgical gloves, face masks and sanitizers, to ventilators and vaccines, our researchers, scientists, entrepreneurs and industrialists shaped Prime Minister Narendra Modi’s vision of an Atmanirbhar Bharat into reality.

It is with this spirit that we must move forward.

India, while conducting the largest vaccination drive in the world, is also supplying vaccines to a number of countries across the world.

We take joy in serving others in the true spirit of “Vasudhaiva Kutumbakam” (the world is one family).

That is the Amrita, the eternal universal vision we have inherited.

That is the vision we have to translate into reality, into a sacred mission through hard work and dedication.  Let the Amrita Mahotsava lead us and our country into that splendid future.

Thank you.

Jai Hind!”

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*